सियादेवी वॉटरफॉल एवं मंदिर की पूरी जानकारी एक अतभुत स्थल

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में स्थित सियादेवी वॉटरफॉल एवं सियादेवी मंदिर एक खूबसूरत धार्मिक पर्यटन स्थल है। यह स्थल अपनी धार्मिक एवं पर्यटन स्थल के लिए जानी जाती है। यदि आप सिया देवी वॉटरफॉल जाने का प्लान बना रहे हैं तो हमने आपको सिया देवी वॉटरफॉल तथा सिया देवी मंदिर के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी है जिसे आप वहां जाने से पहले देख सकते हैं। 

हमने इस पोस्ट में आपको siyadeivi waterfall balod तथा सिया देवी मंदिर के बारे में पूरी जानकारी दी है जिसे आपको जानना आवश्यक है चलिए जानते है। 

सियादेवी वॉटरफॉल बालोद / Siyadevi Waterfall Balod

Siyadevi waterfall photos

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में स्थित सियादेवी वॉटरफॉल एक बहुत ही खूबसूरत जलप्रपात है जहाँ हर साल हजारों पर्यटक आते है। बालोद से सियादेवी जलप्रपात की दुरी लगभग 20 किमी है जहाँ आप बड़ी आसानी से पहुच सकते है। यह जलप्रपात हरे भरे घने जंगलो के बीच पहाड़ी में होने के कारण एक शांत प्राकृतिक स्थल बन जाता है। जो यहाँ आने वाले लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

सियादेवी जलप्रपात की ऊंचाई 15 से 20 फिट है तथा इसकी चौड़ाई 35 से 40 फिट है जिसके कारण बरसात के समय यहाँ आने वाले पर्यटक इसकी जलधारा की खूबसूरती देख मंत्रमुग्ध हो जाते है और अपने आप को प्रकृति के करीब महसूस करते है। आप यहाँ अपने परिवार के साथ आकर एक सुनहरा पल बिता सकते है जो आपने परिवार को एक खूबसूरत यादें देगा। 

Siyadevi Mandir Balod / सियादेवी मंदिर बालोद

Siyadevi mandir Balod chhattisgarh

सियादेवी जलप्रपात यहाँ स्थित सियादेवी मंदिर के कारण प्रसिद्ध है यह मन्दिर माँ सीता को समर्पित है। यह मंदिर अपने आस पास के लोगों के लिए एक तीर्थ स्थल है जहाँ प्रतिवर्ष हजारों पर्यटक यहाँ आते है और माँ सीता देवी के दर्शन करते है। सियादेवी मंदिर बालोद एकमात्र ऐसा मंदिर है जहाँ माँ सीता अकेली विराजमान है ऐसा मंदिर पुरे छत्तीसगढ़ में नही है।

सियादेवी मंदिर में विराजमान देवी माँ सीता की मूर्ति पत्थर रूम में विराजमान है। मूर्ति की आकृति ऐसी है की जो भक्त माँ के दर्शन करते आते है उन्हें माँ सीता जी के दर्शन पुरे नही हो पाते अर्थात माँ की मूर्ति तिरछी है जिसके कारण लोग माँ का दर्शन उसके सम्मुख रूप में नही कर पाते।

मंदिर की रूपरेखा भव्य तरीके से बनाई गई है जिसमे माँ सीता मंदिर के गर्भगृह में विराजमान है। इसके अलावा यहाँ आपको अन्य बहुत से देवी देवताओं के छोटे बड़े मंदिर देखने को मिल जाते है। जिसमें श्री हनुमान मंदिर, माँ दुर्गा मंदिर, काली मंदिर, शिव पार्वती मंदिर, गणेश मंदिर आदि। जिसके दर्शन आप यहाँ आने के बाद कर सकते है।

Siyadevi Temple History / सियादेवी मंदिर का इतिहास

सियादेवी मंदिर बालोद में स्थित एक प्रसिद्ध मंदीर है जो माँ सीता को समर्पित है यह मंदिर अपने भव्य वास्तुकला और सुंदर मूर्तियों एवं खूबसूरत स्थल के लिए जाना जाता है। मंदिर का इतिहास बहुत ही प्राचीन बताया जाता है जिसमें आपको यहाँ के स्थानीय लोगों से एक कहानी सुनने को मिलती है। जिसमे कहाँ जाता है की माँ पार्वती माँ सीता का रूप लेकर स्वयं ही पत्थर रूप में यहाँ विराजमान है ।

किवदंती

यह उस समय की बात है जब भगवान राम और लक्ष्मण जी माँ सीता के तलाश में इस पहाड़ी से गुजर रहे थे तब भगवान शिव जी अपने कैलाश पर्वत में बैठे हुए श्री राम जी को प्रणाम कर रहे है तभी माँ पार्वती देवी आश्चर्य चकित हो जाती है की शिव जी एक समान्य मानव को प्रणाम कैसे कर रहे है। माँ पार्वती शिव जी को बोलती है की आप इस मानव को क्यों प्रणाम कर रहे है, तभी शिव जी श्री राम के बारे में बताते है लेकिन माँ पार्वती नही मानती है श्री राम जी के परीक्षा लेने के लिए पहाड़ के ऊपर माँ सीता देवी का रूप धारण कर मिलते है लेकिन श्री राम जी समझ जाते है की ये सीता नही बल्कि माँ पार्वती है। श्री राम जी माँ पार्वती को प्रणाम करते है। तभी माँ पार्वती अपना रूप में आकर श्री राम जी को आशीर्वाद देती हैऔर वही माँ सीता के रूप में विराजमान हो जाती है। तब से इस स्थान को सियादेवी मंदिर के नाम से लोग जानते है।

इसे भी पढ़ें: ह रही Top 15 बालोद में घूमने की जगह

Best time to Visit 

यदि आप siyadevi mandir balod आने का प्लान बना रहे है तो आपको पता होना चाहिए की यहाँ आने का सबसे अच्छा समय कौन सा है। चलिए हम आपको बताते है:

सियादेवी मंदिर एवं वॉटरफॉल बालोद आने का सबसे अच्छा समय:

जुलाई से दिसम्बर – आप सियादेवी जलप्रपात की खूबसूरती देखने और शांत वातावरण का लुफ्त ऊठाने जुलाई से दिसम्बर के बीच आ सकते है।

नवरात्रि – आप नवरात्रि के दौरान भी सियादेवी मंदिर आकर माँ सीता देवी के दर्शन कर सकते है माँ देवी आपके परिवार को सुखमय बनाएगी और आपकी साडी मनोकामनाए पूर्ण करेगी।

Things to do 

यदि आप यहाँ आते है तो आपको यहाँ कुछ करने लायक चीजें मैंने नीचे बताई है जिसे आप देख सकते है।

  • मंदिर दर्शन
  • पिकनिक 
  • कैम्पिंग
  • ट्रैकिंग
  • जलप्रपात में स्नान
  • प्राकृतिक दृश्य देखना

How to reach 

यदि आप सियादेवी वॉटरफॉल बालोद आने का प्लान बना रहे है तो यहाँ आने का साधन मैंने नीचे बताया है जिसे आप देख सकते है। 

सड़क मार्ग – सड़क मार्ग की सहायता से आप बड़ी आसानी से यहाँ कार, बाइक, या बस के माध्यम से यहाँ पहुच सकते है।

रेल मार्ग – आप रेल मार्ग द्वारा बड़ी आसानी से बालोद पहुच सकते है और माँ सीता के दर्शन और जलप्रपात की खूबसूरती का आनद उठा सकते है।

Review

बालोद जिले में स्थित सियादेवी मंदिर और जलप्रपात एक धार्मिक और पर्यटन स्थल है जहाँ आप अपने पुरे परिवार तथा दोस्तों के साथ जाकर एक खुबसूरत पल बिता सकते है। वहां आप माँ सीता के दर्शन कर जलप्रपात की खूबसूरती का आनंद उठा सकते है हरे भरे जंगल की शांत प्राकृतिक दृश्य को निहार सकते है।

बालोद से सियादेवी वॉटरफॉल की दुरी कितनी है?

सियादेवी वॉटरफॉल बालोद जिले से मात्र 20 किमी की दुरी पर स्थित है जहाँ आप बड़ी आसानी से पहुच सकते है।

सियादेवी मंदिर क्यों प्रसिद्ध है?

सियादेवी मंदिर माँ सीता को समर्पित है कहाँ जाता है की यह मंदिर रामायण काल से जुड़ा हुआ है तथा यहाँ मंदिर के पास स्थित एक खूबसूरत जलप्रपात जिसे सियादेवी जलप्रपात कहते है जिसे देखने के लिए हर साल हजारों पर्यटक यहाँ आते है। जिसके कारण यह स्थान प्रसिद्ध है।

सियादेवी मंदिर कहाँ है?

सियादेवी मंदिर छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में स्थित है जो अपनी धार्मिक एवं पर्यटन स्थल के लिए जानी जाती है।

Leave a comment