महासमुंद की प्रसिद्ध पतई माता मंदिर

दोस्तों छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में स्थित पतई माता मंदिर एक प्रसिद्ध मंदिर है, जो पहाड़ी के ऊपर विद्यमान है। यदि आप मां पतई देवी के दर्शन करने जाने का प्लान बना रहे हैं। तो आप सही जगह पर आए हैं, इस आर्टिकल में हम आपको पता ही माता मंदिर महासमुंद के बारे में पूरी जानकारी देंगे जिससे आप बड़ी आसानी से महासमुंद पहुंचकर मां पता ही देवी के दर्शन कर अपनी मनोकामना मांग सकते हैं।

पतई माता मंदिर | Patai Mata Temple 

यह मंदिर महासमुंद जिले के ग्राम पतई में स्थित एक पवित्र धार्मिक स्थल है जो जिला मुख्यालय से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। तथा मंदिर के पास बहुत से खूबसूरत दृश्य एवं जलप्रपात भी स्थित है जो इसे एक पर्यटन क्षेत्र भी बनता है। पहाड़ी पर स्थित बताई माता का मंदिर यहां आसपास के लोगों के लिए एक आस्था का केंद्र है।

मंदिर में स्थित मां पता देवी मां दुर्गा का स्वरूप है। मंदिर की रूपरेखा भव्य रूप से बनाई गई है। जिससे यहां आने वाले श्रद्धालु भक्त माता के दर्शन के लिए खींचे चले आते हैं। पहाड़ी के ऊपर स्थित होने के कारण या आपको बहुत ही खूबसूरत दृश्य दिखाई पड़ता है यहां का वातावरण और शांत क्षेत्र आपको एक अलग ही एहसास प्रदान करता है।

पतई माता मंदिर का इतिहास बहुत पुराना बताया जाता है कहा जाता है कि यह मंदिर बहुत पहले से ही बना हुआ था। मुख्य मंदिर के अलावा यहां आपको अन्य कई देवी देवताओं के मंदिर भी देखने को मिलते हैं जिसके आप दर्शन यहां आने की बात कर सकते हैं। 

बहुत से श्रद्धालु भक्त पतई देवी के दर्शन करने के लिए प्रत्येक नवरात्रि यहां आकर ज्योत जलाते हैं। तथा यहां नवरात्रि के समय बहुत ज्यादा भीड़ देखी जाती हैं. लोग दूर-दूर से माँ पतई देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं तथा यहां आने के बाद मां पतई देवी से अपनी मनोकामना प्रकट करते हैं। तथा कहा जाते हैं कि यहां आने वाले श्रद्धालु भक्तों की मनोकामना मां पतई देवी पूर्ण करती है। 

पतई माता मंदिर के पास अन्य मंदिर

यहां आपको पतई माता मंदिर के पास कुछ दूरी पर अन्य मंदिर देखने को मिलते हैं जहां जाकर आप उन मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। 

सिरपुर – सिरपुर को कौन नहीं जानता सिरपुर को प्राचीन नगरी के रूप में जाना जाता है जहाँ आपको बहुत से प्राचीन तथा ऐतिहासिक मंदिर देखने को मिलते है।

मुंगई माता मंदिर – पतई माता मंदिर से महज 5 किमी की दुरी पर स्थित यह मंदिर एक प्रसिद्ध मंदीर है जहाँ हर शाम 7 बजे भालू माँ देवी के दर्शन करने आते है।

छछान माता मंदिर – यह मंदिर मुंगई माता मंदिर के पहले पड़ता है जिससे आप यहाँ जा सकते है और यह मंदिर भी पहाड़ के ऊपर स्थित है। जिससे आप माँ छछान भवानी के दर्शन कर सकते है।

इसे भी देखें: भिलाई के 15 प्रमुख पर्यटन स्थल | Bhilai me Ghumne ki Jagah

पतई माता मंदिर कैसे पहुचे?

यहाँ पहुचने के लिए मैंने नीचे आपको कुछ यात्रा के विकल्प सुझाये है जिसकी मदद से आप वहां बड़ी आसानी से पहुंच कर माँ पतई देवी के दर्शन अपने पूरे परिवार के साथ कर सकते हैं। साथ ही आप माँ पतई के दर्शन करने के बाद अपनी मनोकामना मां से मांग सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा – सड़क मार्ग की सहायता से बड़ी आसानी से मां पतई देवी के दर्शन करने के लिए जा सकते हैं आप अपने बाइक कर या बस से यहां पहुंचकर मां के दर्शन करने के बाद अपनी मनोकामना प्रकट कर सकते हैं। 

रेल मार्ग – रेल मार्ग की सहायता से भी महासमुंद पहुंचकर मां पतई देवी के दर्शन करने के लिए जा सकते हैं यहां पहुंचने के लिए आपको बहुत से रेल मार्ग मिल जाएंगे जिससे आप यहां पहुंच सकते हैं। 

मैं आपको यह दोनों ही यात्रा की सुझाव दूंगा जिससे की आप बड़ी आसानी से यहाँ पहुच सकते है चाहे तो आप हवाई जहाँज की भी सहायता से यहाँ पहुच सकते है लेकिन मैंने इसे एक सामान्य आदमी के हिसाब से बताया है जिससे यहाँ कोई भी पहुच सकता है।

निष्कर्ष

मैं आपको यह ही कहना चाहूँगा की यदि आप महासमुंद जिले के निवासी है या इसके पास रहते है तो आपको इस जगह एक बार पतई माता मंदिर जरुर आना चाहिए आप यहाँ अपने पुरे परिवार तथा दोस्तों के साथ आ सकते है यह मंदिर पहाड़ के ऊपर होने के कारण एक सुंदर नज़ारा प्रस्तुत करता है जो आपको शांति का अनुभव प्रदान करता है।

मुझे आशा है की यह ब्लॉग पोस्ट आपको पसंद आई होगी और आप इस पोस्ट को पढ़कर माँ पतई देवी के बारे में जान पाए होंगे यदि हाँ तो हमे कमेंट में अपना अनुभव shere करना न भूलें।

Leave a comment