घुनघुट्‌टा डैम अंबिकापुर पर्यटन का खज़ाना

हेलो दोस्तों आपका स्वागत है हमारे इस ब्लॉग पोस्ट में जिसमे हम आपको Ghunghutta dam ambikapur के बारे में बतायेंगे। यदि आप घुनघुट्‌टा डैम अंबिकापुर जाने का प्लान बना रहे है तो यह पोस्ट आपके लिए ही है। हम इस पोस्ट में आपको दम के बारे में पूरी जानकारी देंगे जिससे आपको वहां जाने के बाद किसी तरह ही परेशानी नही होगी।

तो चलिए बिना देरी किये जानते है घुनघुट्‌टा डैम के बारे में –

Ghunghutta Dam Ambikapur | घुनघुट्‌टा डैम अंबिकापुर

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले के अंबिकापुर विकासखंड के ग्राम लिबरा में स्थित यह एक खूबसूरत विशाल डैम है, जहाँ प्रतिवर्ष हजारो की सख्या में पर्यटक यह घुमने के लिए आते है। यह डैम आपको शांति का अनुभव प्रदान करती है यहाँ स्थित ऊंचे ऊंचे पहाड़ और वादिया पर्यटकों को एक अलग ही एहसास प्रदान करते है।

बात करे Ghunghutta dam distance की तो यह अंबिकापुर विकासखंड से लगभग 15 से 20 किमी और जिला मुख्यालय सरगुजा से लगभग 15 किमी है जहाँ आप बड़ी आसानी से पहुच सकते है और इस डैम की सुन्दरता को निहार सकते है। यहाँ आने वाले पर्यटक इसकी सुन्दरता को देख मंत्रमुग्ध हो जाते है डैम इतना बडा है की लोग इसे बस देखते ही रहते है।

Ghunghutta Dam History

2002 में निर्मित, घुनघुटा बांध, जिसे श्याम प्रोजेक्ट के नाम से भी जाना जाता है, अंबिकापुर की जीवन रेखा बन चुका है। सोन नदी की सहायक घुनघुटा नदी पर स्थित यह बांध सिर्फ सिंचाई का जरिया ही नहीं है, बल्कि घरेलू पानी की आपूर्ति, मछली पालन और यहां तक कि छोटे पैमाने पर बिजली उत्पादन में भी अहम भूमिका निभाता है। 13,500 हेक्टेयर कृषि भूमि को सींचित करते हुए, इसने क्षेत्र की कृषि उत्पादकता को बढ़ाया है और रोजगार के अवसर पैदा किए हैं। पर्यटन के लिहाज से भी यह बांध आकर्षण का केंद्र है, जहां पार्क, नौका विहार और मनमोहक सूर्यास्त का लुत्फ उठाया जा सकता है। हालांकि जलवायु परिवर्तन और गाद जमाव जैसी चुनौतियों का सामना करते हुए, घुनघुटा बांध का भविष्य प्रबंधन पर टिका है। निरंतर देखरेख और उचित उपायों से यह बांध आने वाले समय में भी अंबिकापुर और आसपास के क्षेत्रों के विकास में सहायक होता रहेगा।

READ ALSO: भिलाई के 15 प्रमुख पर्यटन स्थल | Bhilai me Ghumne ki Jagah

Things to Do in Ghunghutta Dam

अंबिकापुर के पास स्थित घुनघुटा बांध, प्रकृति प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है। शांत पानी, मनोरम दृश्य और समृद्ध जैव विविधता इसे एक आदर्श पर्यटन स्थल बनाते हैं।

यहां आप क्या कर सकते हैं:

  • नौका विहार: शांत पानी में नौका विहार का आनंद लें और प्रकृति की सुंदरता को निहारें।
  • पिकनिक: बांध के किनारे बने पार्क में पिकनिक मनाएं और ताजी हवा का आनंद लें।
  • पक्षी देखना: विभिन्न प्रकार के पक्षियों को देखें जो बांध और उसके आसपास के क्षेत्र में रहते हैं।
  • ट्रेकिंग: बांध के आसपास के पहाड़ों में रोमांचक ट्रेकिंग का अनुभव करें।

घुनघुटा बांध में आपकी यात्रा को यादगार बनाने के लिए कुछ सुझाव:

  • सुबह जल्दी या शाम को घूमने जाएं: जब मौसम सुहावना होता है और भीड़ कम होती है।
  • आरामदायक जूते पहनें: यदि आप ट्रेकिंग करने की योजना बना रहे हैं।
  • सनस्क्रीन, टोपी और पानी साथ रखें: धूप से बचाव के लिए।
  • कूड़ा-करकट न फैलाएं: और पर्यावरण को स्वच्छ रखें।

घुनघुटा बांध प्रकृति प्रेमियों और साहसिक गतिविधियों के शौकीनों के लिए एक आदर्श स्थान है। यदि आप अंबिकापुर में हैं, तो इस अद्भुत बांध को अवश्य देखें।

The best time to visit Ghunghutta Dam

अंबिकापुर के पास स्थित घुनघुटा बांध, प्रकृति प्रेमियों और पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। शांत पानी, मनोरम दृश्य और समृद्ध जैव विविधता इसे वर्ष भर आकर्षक बनाते हैं।

हालांकि, घुनघुटा बांध घूमने का सबसे अच्छा समय मौसम और आपकी रुचि पर निर्भर करता है:

1. अक्टूबर से मार्च (शीतकालीन महीने)

2. अप्रैल से जून (गर्मियों के महीने)

3. जुलाई से सितंबर (मानसून)

आप इन दिनों Ghunghutta dam ambikapur जाकर अपने परिवार और दोस्त के साथ एक सुखद और शांति से भरा पल बिता सकते है जो आपके दोस्तों के एक खूबसूरत यादें देगा।

Leave a comment